Brijbooti

What is Arjuna bark and how to identify it?

Arjuna tree is a natural heritage for everyone, which is famous for its diversity and usefulness. This tree is found on the banks of rivers and streams from the foothills of the Himalayas to Burma, Bengal, Central India, South Bihar, Chota Nagpur, Ceylon, and other areas. However, in Punjab and North-Western provinces it is not produced naturally, rather it is produced by sowing.

Identification of this tree is not difficult, because its big tall trees can be easily identified, especially in forested areas. Even the shape of its leaves is similar to a human tongue, and behind the leaves there are two nodes on the stalk, which are not visible from outside. Its flowers are very small, white in color with green freckles, and can be seen in Baisakh and Jyestha. Its fruits ripen in the winter season, and the bark is greenish white, khaki brown or purple in color, khaki color comes out from the bark.

The khaki color emanating from the bark of this nectarine tree is used in coloring wood ash, while its use in coloring wood makes it fine and useful. Its tree has a special type of golden, brown and transparent gum, which is used for eating and makes it even more valuable.

Names of Arjun bark in other languages

Sanskrit – Arjun, Nadisarj:, Veervriksha, Veer, Dhananjay, Kaunteya, Partha: Dhaval
Hindi – Arjun, Kahu, Koh, Arjan, Anjani, Matti, Holematt
English – White Murdah
Tamil – Marudu, Attumarutu, Nirmarudu, Vellaimarudu
Konkani – Holematti
Bengali – Arjun Gach, Arjhan
Kannada – Maddi, Billimaddi, Nirmathi, Holematti.
Assamese – Orjun
Odia – Orjuno
Gujrati – Arjun, Sadado, Arjunsadara.
Telegu – Tellamaddi, Erumdadi, Yermaddi
Nepali – Kaahu
Panjabi – Arjan
Marathi – Anjan, Savimadat
Malayalam – Velamarutu
Arbi – Arjun Post

Benefits of Arjuna bark

1. Benefits of Arjuna bark for healthy heart

Arjuna bark may prove to be an important medicine for heart health, and can be used to reduce cardiovascular risks and help protect the heart. In a research by NCBI, due to the presence of triterpenoids, Arjuna bark has shown special effect in improving heart health due to its special chemical properties. The triterpenoids present in it have helped in reducing the risks associated with heart diseases. The combination of these chemical compounds is helpful in protecting the heart, keeping your heart in good health.

2. Benefits of Arjuna bark in cholesterol

Proper consumption of the properties of Arjuna bark can help in keeping the cholesterol level of the body balanced. It is a natural remedy that not only helps in protecting your health but may also be able to control the different types of cholesterol levels in the body. Cholesterol is an essential sustainable element for the body, but if its levels become excessive, it can cause health problems. The bark obtained from the Arjuna plant contains abundant amounts of phytosterols and other properties that may help control cholesterol. Additionally, it is rich in antioxidants, vitamins, and fiber, which also helps in keeping the body healthy.

3. Benefits of Arjun bark in weight loss

Using Arjuna bark can be a natural and safe way to help in weight loss. This can be especially beneficial for those who are suffering from heart disease and struggling with obesity. The properties present in Arjuna bark can help in maintaining weight balance and increasing metabolism. Metabolism is an important process that converts food into energy in the body. The elements present in Arjuna bark can improve this process and help the body generate more energy. This can improve weight loss, because with proper metabolism the body burns fat faster.

4. Benefits of Arjuna bark for diabetic patients

The antidiabetic properties of Arjuna bark can contribute positively to the control of diabetes. This property can help in bringing blood sugar to normal level by improving kidney and liver function. This can be a safe and natural solution for diabetic patients which helps them stay healthy apart from medicines. Due to the antidiabetic properties present in Arjuna bark, its regular consumption can show positive results in the management of diabetes.

5. Benefits of Arjun bark in high BP

When BP level increases, it can put more pressure in the body, which can cause more difficulty to the heart. The antihypertensive properties in Arjuna bark can help control it as well as reduce other related problems. Due to the triterpenoids present in it, this bark is considered as a natural medicine and can be consumed disciplinedly, without any negative effects. This makes it a safe and effective option that can help people get rid of high blood pressure.

How to use Arjuna bark?

Arjuna bark, commonly known as herbal medicine, can prove to be a wonderful solution for heart patients and people suffering from obesity. Its regular consumption can help in weight loss, because the properties present in it can help in keeping weight balanced and increasing metabolism.

Tomato and Arjuna Bark Juice:

To maintain normal heartbeat, mix 1 teaspoon of Arjuna bark powder in a glass of tomato juice and regular consumption can provide quick relief.

Milk and Arjuna bark powder:

Mixing 1 spoon of fine powder in 1 cup of milk and consuming it regularly in the morning and evening can provide relief in all heart diseases, strengthen the heart and remove weakness.

* How to use Arjuna bark in diabetes

Arjun bark has a special contribution in controlling diabetes. An effective decoction can be made by mixing it with Neem, Amalaki, Turmeric, and Neelkamal and cooking it in water. Consuming 10-20 ml of decoction mixed with honey every morning can improve bile discharge. This decoction boosts body energy and helps in managing diabetes. Due to the medicinal properties present in it, it helps in keeping the patient healthy, especially for the patients suffering from cholestasis.

*How to use Arjun bark to lose weight

To lose weight, consuming Arjuna bark in various forms can be a convenient and effective way. Taking it in powder form can help in reducing the increasing weight, thereby protecting your physical health. Making tea from Arjuna bark and drinking it is also an excellent option. By boiling it in water and drinking it mixed with honey, your weight can be controlled and your body remains healthy. Enjoying Arjuna bark and cinnamon tea is also a great option. The properties found in it increase your metabolism and can help in reducing weight.

How to make decoction of Arjuna bark

Arjuna bark decoction is a powerful Ayurvedic medicine, to make it you need the following ingredients: 3-4 pieces of Arjuna bark, 7-8 basil leaves, and 1/2 inch ginger piece.

First, wash the Arjuna bark thoroughly and soak it in water overnight. In the morning, put this water along with the bark in a vessel and add three cups of water on top and keep it on the gas. Keep the gas flame on medium and after boiling the decoction for a minute or two, add basil leaves and ginger pieces. Now cover the vessel and let the decoction boil, until the water remains half. After this, turn off the gas and with the help of a strainer, filter the decoction of Arjuna bark into a serving glass or cup. This gives you a healthy and an excellent medicine for chronic diseases. The decoction of Arjuna bark is especially beneficial for heart health. Its bark contains natural anti-oxidants, which provide energy to the heart muscles and keep the vascular system strong. Its regular consumption also improves the pumping capacity of the heart and helps in toning the arterial system.

Benefits of drinking Arjuna bark tea

Arjuna tea, which is considered harmless and best for heart health, is loaded with countless benefits. The Arjuna bark present in it helps in controlling the cholesterol level and helps in keeping the blood pressure balanced. It not only helps in maintaining heart health, but is also able to increase the pumping capacity of the heart. Arjuna bark contains natural anti-oxidants, which provide energy to the heart muscles and keep the vascular system strong. This bark helps in toning the heart muscles and keeping the arterial system healthy. Consuming Arjuna bark improves heart protection and proves that Ayurvedic benefits derived from natural ingredients provide unique contribution in maintaining our physical health.

How to make Arjuna bark tea

Drinking Arjuna bark tea will remove bad cholesterol deposited in the veins, know how to make it. In this method, exclusively desi cow milk is used to make Arjun tea, making the tea unique and delicious. One teaspoon of Arjuna bark or powder is boiled in one and a half cups of water, and when the water reduces to half, one cup of cow’s milk is added. Then it is boiled, so that it is reduced to half. This special method is called “Ksheer Pak Vidhi”, due to which the specialty and qualities of Arjuna come into the milk. Add brown sugar or sugar candy to this tea and drink it according to taste, which makes it enjoyable and healthy. If you want, you can make this tea without milk also.

अर्जुन छाल क्या है और इसकी पहचान कैसे करे

अर्जुन का वृक्ष सबके लिए एक प्राकृतिक धरोहर है, जो अपनी विविधता और उपयोगिता के लिए प्रसिद्ध है। यह वृक्ष हिमालय की तलहटी से बर्मा, बंगाल, मध्यभारत, दक्षिण बिहार, छोटा नागपुर, सीलोन, और अन्य क्षेत्रों में नदी-नालों के किनारे पाया जाता है। हालांकि, पंजाब और वायव्य प्रान्तों में इसे कुदरती रूप से पैदा नहीं होता, बल्कि इसे बोकर पैदा किया जाता है। इस वृक्ष की पहचान कठिन नहीं होती, क्योंकि इसके बड़े ऊँचे पेड़, विशेषकर जंगली क्षेत्रों में, आसानी से पहचाने जा सकते हैं। यहां तक कि इसके पत्तों का आकार मनुष्य की जीभ के समान होता है, और पत्तों के पीछे डंठल पर दो गांठ होती हैं, जो बाहर से दिखाई नहीं देतीं। इसके फूल बहुत छोटे होते हैं, हरी झाईं लिए हुए, सफेद रंग के, और इन्हें बैसाख और ज्येष्ठ में देखा जा सकता है। इसके फल जाड़े की ऋतु में पकते हैं, और छाल हरापन लिए हुए सफेद, खाकी भूरी या बैगनी रंग की होती है, छाल से खाकी रंग निकलता है। इस अमृतवृक्ष की छाल में से निकलने वाला खाकी रंग लकड़ी की राख के रंगने में काम आता है, जबकि इसका लकड़ी का रंगने में इसे बारिक और अनुप्रयोगी बनाता है। इसके झाड़ की एक विशेष प्रकार की सुनहरी, भूरी और परादर्शक गोंद है, जो खाने के काम में आता है और इसे और भी मूल्यवान बनाता है।

अन्य भाषाओं में अर्जुन छाल के नाम

Sanskrit – अर्जुन, नदीसर्ज : , वीरवृक्ष, वीर, धनंजय, कौंतेय, पार्थ : धवल
Hindi – अर्जुन, काहू, कोह, अरजान, अंजनी, मट्टी, होलेमट्ट
English – व्हाइट मुर्दाह (White murdah)
Tamil – मरुदु (Marudu), अट्टूमारूतू (Attumarutu), निरमारूदु (Nirmarudu), वेल्लईमरुदु (Vellaimarudu)
Konkani – होलेमट्टी (Holematti)
Bengali – अर्जुन गाछ (Arjun Gach), अरझान (Arjhan)
Kannada – मड्डी (Maddi), बिल्लीमड्डी (Billimaddi), निरमथी (Nirmathi) होलेमट्टी (Holematti)
Assamese – ओर्जुन (Orjun)
Odia – ओर्जुनो (Orjuno)
Gujrati – अर्जुन (Arjun), सादादो (Sadado), अर्जुनसदारा (Arjunsadara)
Telegu – तैललामद्दि (Tellamadi), इरमअददी (Erumdadi), येरमददी (Yermaddi)
Nepali – काहू (Kaahu)
Panjabi – अरजन (Arjan)
Marathi – अंजन (Anjan), सावीमदात (Savimadat)
Malayalam – वेल्लामरुटु (Velamarutu)
Arbi – अर्जुन पोस्त (Arjun post)

अर्जुन छाल के फायदे

1. स्वस्थ हृदय के लिए अर्जुन छाल के फायदे

अर्जुन की छाल हृदय स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण औषधि के रूप में सिद्ध हो सकती है, और इसका उपयोग हृदय जोखिमों को कम करने और दिल की सुरक्षा में मदद करने के लिए किया जा सकता है। एनसीबीआई के एक शोध में ट्राइटरपेनॉइड्स के मौजूद होने से, अर्जुन छाल ने अपने विशेष रसायनिक गुणों के कारण हृदय स्वास्थ्य को सुधारने में विशेष प्रभाव दिखाया है। इसमें मौजूद ट्राइटरपेनॉइड्स ने हृदय रोगों से जुड़े जोखिमों को कम करने में मदद की हैं। इन रसायनिक यौगिकों का संयोजन हृदय की सुरक्षा के लिए सहायक है, जिससे आपका दिल अच्छे स्वास्थ्य में रहता है।

2. कोलेस्ट्रॉल में अर्जुन छाल के फायदे

अर्जुन छाल के गुणों का समुचित सेवन से शरीर के कोलेस्ट्रॉल स्तर को संतुलित रखने में मदद की जा सकती है। यह एक प्राकृतिक उपाय है जो न केवल आपके स्वास्थ्य को सुरक्षित रखने में मदद करता है, बल्कि शरीर के विभिन्न प्रकार के कोलेस्ट्रॉल के स्तरों को नियंत्रित करने में भी सक्षम हो सकता है। कोलेस्ट्रॉल शरीर के लिए एक आवश्यक सतत तत्व है, लेकिन अगर इसका स्तर अत्यधिक हो जाता है, तो यह स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकता है। अर्जुन के पौधे से प्राप्त होने वाले छाल में प्रचुर मात्रा में फिटोस्टेरॉल्स और अन्य गुण होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, इसमें पूर्णता से भरा हुआ एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन्स, और फाइबर भी होता है, जो साथ ही शरीर को और भी स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है।

3. वजन कम करने में अर्जुन छाल के फायदे

अर्जुन की छाल का उपयोग वजन घटाने में एक प्राकृतिक और सुरक्षित तरीका हो सकता है। यह विशेषकर उन लोगों के लिए फायदेमंद हो सकता है जो हृदय रोग से पीड़ित हैं और मोटापे के साथ जूझ रहे हैं। अर्जुन की छाल में मौजूद गुणधर्म वजन को संतुलित रखने और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं। मेटाबॉलिज्म एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है जो शरीर में भोजन को ऊर्जा में बदलती है। अर्जुन की छाल में मौजूद तत्व इस प्रक्रिया को सुधार सकते हैं और शरीर को अधिक ऊर्जा उत्पन्न करने में मदद कर सकते हैं। इससे वजन कम करने में सुधार हो सकता है, क्योंकि सही मेटाबॉलिज्म से शरीर तेजी से फैट को बर्न करता है।

4. मधुमेह रोगियों के लिए अर्जुन छाल के फायदे

अर्जुन की छाल का एंटीडायबिटिक गुण डायबिटीज के नियंत्रण में सकारात्मक योगदान कर सकता है। यह गुण किडनी और लिवर की कार्यक्षमता को सुधारकर ब्लड शुगर को सामान्य स्तर पर लाने में मदद कर सकता है। डायबिटीज के मरीजों के लिए यह एक सुरक्षित और प्राकृतिक उपाय हो सकता है जो उन्हें दवाओं के अलावा भी स्वस्थ रहने में मदद करता है। अर्जुन की छाल में मौजूद एंटीडायबिटिक गुण के कारण, इसका नियमित सेवन डायबिटीज के प्रबंधन में सकारात्मक परिणाम दिखा सकता है।

5. हाई बीपी में अर्जुन छाल के फायदे

बीपी का स्तर बढ़ने पर यह शरीर में अधिक दबाव डाल सकता है, जिससे हृदय को ज्यादा कठिनाई हो सकती है। अर्जुन की छाल में होने वाले एंटीहाइपरटेंसिव गुण इसे नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं और साथ ही अन्य संबंधित समस्याओं को भी कम कर सकते हैं। इसमें मौजूद ट्राइटरपेनॉइड के कारण यह छाल एक प्राकृतिक औषधि के रूप में मानी जाती है और उसका सेवन अनुशासित रूप से किया जा सकता है, बिना किसी नकारात्मक प्रभाव के। इससे यह एक सुरक्षित और प्रभावी विकल्प बनती है जो लोगों को उच्च ब्लड प्रेशर से निजात पाने में मदद कर सकता है।

अर्जुन छाल का उपयोग कैसे करें?

अर्जुन की छाल, जिसे आमतौर पर हर्बल मेडिसिन के रूप में जाना जाता है, हृदय रोगियों और मोटापे से परेशान लोगों के लिए एक अद्भुत समाधान सिद्ध हो सकती है। इसका नियमित सेवन वजन घटाने में मदद कर सकता है, क्योंकि इसमें मौजूद गुणधर्म वजन को संतुलित रखने और मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद कर सकते हैं।

टमाटर और अर्जुन की छाल का रस:

हृदय की सामान्य धड़कन की स्तिथि को बनाए रखने के लिए एक गिलास टमाटर के रस में 1 चम्मच अर्जुन की छाल का चूर्ण मिलाएं और नियमित सेवन से शीघ्र लाभ हो सकता है।

दूध और अर्जुन की छाल का चूर्ण:

सुबह-शाम नियमित सेवन करने वाले 1 कप दूध में 1 चम्मच महीन चूर्ण मिलाकर हृदय के समस्त रोगों में लाभ हो सकता है, हृदय को बल मिल सकता है और कमजोरी दूर हो सकती है।

* डायबिटीज में अर्जुन छाल का इस्तेमाल कैसे करे

डायबिटीज को नियंत्रित करने में अर्जुन छाल का विशेष योगदान है। इसे नीम, आमलकी, हल्दी, और नीलकमल के साथ मिलाकर पानी में पकाकर एक प्रभावशाली काढ़ा बनाया जा सकता है। रोजाना सुबह 10-20 मिली काढ़े में मधु मिलाकर सेवन करने से पित्तज-प्रमेह में सुधार हो सकता है। यह काढ़ा शरीर की ऊर्जा को बढ़ावा देता है और डायबिटीज के प्रबंधन में मदद करता है। इसमें मौजूद औषधीय गुण से यह रोगी को स्वस्थ रखने में मदद करता है, विशेषकर पित्तज-प्रमेह के मरीजों के लिए।

*वजन कम करने के लिए अर्जुन छाल का इस्तेमाल कैसे करे

वजन कम करने के लिए, अर्जुन की छाल को विभिन्न रूपों में उपभोग करना एक सुगम और प्रभावी तरीका हो सकता है। इसे चूर्ण की रूप में लेने से बढ़ता हुआ वजन कम करने में मदद मिल सकती है, जिससे आपका शारीरिक स्वास्थ्य सुरक्षित रहता है।अर्जुन की छाल को चाय बनाकर पीना भी एक उत्कृष्ट विकल्प है। इसे पानी में उबालकर शहद के साथ मिलाकर पीने से आपका वजन नियंत्रित रह सकता है और आपका शरीर स्वस्थ बना रहता है। अर्जुन की छाल और दालचीनी की चाय का आनंद लेना भी एक श्रेष्ठ विकल्प है। इसमें मिले हुए गुण से आपका मेटाबोलिज्म बढ़ता है और वजन कम करने में मदद कर सकता है।

अर्जुन की छाल का काढ़ा कैसे बनाएं

अर्जुन छाल का काढ़ा एक शक्तिशाली आयुर्वेदिक औषधि है, जिसे बनाने के लिए आपको निम्नलिखित सामग्री की आवश्यकता है: 3-4 टुकड़े अर्जुन छाल, 7-8 तुलसी के पत्ते, और 1/2 इंच अदरक टुकड़ा।

पहले, अर्जुन छाल को अच्छी तरह से धोकर रातभर के लिए पानी में भिगोकर रखें। सुबह, इस पानी को छाल समेत एक बर्तन में डालें और ऊपर से तीन कप पानी मिलाएं और गैस पर रखें। गैस की फ्लेम को मीडियम पर रखें और एक-दो मिनट तक काढ़ा उबालने के बाद तुलसी के पत्ते और अदरक के टुकड़े मिलाएं। अब बर्तन को ढककर काढ़े को उबलने दें, जब तक कि पानी आधा न रह जाए। इसके बाद गैस बंद करें और छन्नी की मदद से अर्जुन छाल के काढ़े को सर्विंग गिलास या कप में छान लें। इससे आपको एक स्वास्थ्यकर और पुराने रोगों के लिए एक शानदार औषधि मिलती है।अर्जुन छाल का काढ़ा दिल की सेहत के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है। इसके छाल में प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो हृदय की मांसपेशियों को ऊर्जा प्रदान करते हैं और वैस्कुलर सिस्टम को मजबूत बनाए रखते हैं। इसके नियमित सेवन से हृदय की पंपिंग क्षमता में भी सुधार होती है और धमनी प्रणाली को टोन करने में मदद करता है।

अर्जुन की छाल की चाय पीने के फायदे

अर्जुन टी, जो हानिरहित और हृदय स्वास्थ्य के लिए सर्वोत्तम मानी जाती है, अनगिनत गुणों से भरी हुई है। इसमें मौजूद अर्जुन की छाल कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखने में सहारा प्रदान करती है और ब्लड प्रेशर को संतुलित रखने में सहायक होती है। यह नहीं केवल हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करती है, बल्कि यह भी हृदय की पंपिंग क्षमता को बढ़ाने में सक्षम है। अर्जुन की छाल में प्राकृतिक एंटी-ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो हृदय की मांसपेशियों को ऊर्जा प्रदान करते हैं और वैस्कुलर सिस्टम को मजबूत बनाए रखते हैं। यह छाल हृदय की मांसपेशियों को टोन करने में और धमनी प्रणाली को स्वस्थ बनाए रखने में सहारा प्रदान करती है। अर्जुन की छाल का सेवन करने से हृदय की सुरक्षा में सुधार होता है और यह साबित होता है कि प्राकृतिक तत्वों से प्राप्त आयुर्वेदिक लाभ हमारे शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में अद्वितीय योगदान प्रदान करते हैं।

अर्जुन छाल चाय कैसे बनाये

अर्जुन की छाल चाय पीने से दूर हो जाएगा नसों में जमा खराब कोलेस्ट्रॉल, जानें इसे बनाने का तरीका | इस विधि में, अर्जुन चाय को बनाने के लिए विशेष रूप से देसी गाय के दूध का उपयोग किया जाता है, जिससे चाय को अद्वितीय और स्वादिष्ट बनाया जाता है। एक चम्मच अर्जुन छाल या पाउडर को डेढ़ कप पानी में उबाला जाता है, और जब पानी आधा हो जाता है, तो एक कप गाय के दूध को मिलाया जाता है। फिर इसे उबाला जाता है, ताकि यह आधा रह जाए। इस विशेष विधि को “क्षीर पाक विधि” कहा जाता है, जिससे दूध में अर्जुन की विशेषता और गुण आते हैं। इस चाय में ब्राउन शुगर या मिश्री को जोड़कर उसे स्वाद के अनुसार पीना चाहिए, जिससे यह आनंददायक और स्वस्थ होता है।आप चाहे तो इस चाय को बिना दूध के भी बना सकते हैं

 

Arjun chaal Ke bare me janne ke liye click kare – Click Here

Weight N/A
Dimensions N/A
Weight

200gm, 400gm, 1kg

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “BrijBooti Arjun ki Chaal – Terminalia Arjuna”

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Quick Cart

Add a product in cart to see here!
0